Yamraaj Lyrics Surya Panchal

Yamraaj Lyrics: The song is sung by and has music by Surya Panchal While Amit Faridpuriya has written the Yamraaj lyrics.

Yamraaj Song Surya Panchal Details

Vocal/Singer
Music Comsposer Surya Panchal
Lyricist Amit Faridpuriya

Yamraaj Lyrics Surya Panchal

चेले

हां उस्ताद

आज तो मजा आ गया

माल्टा तो जमा एक नंबर की आन लाग गी

ठीक कह उस्ताद

देख देख आगे देखए

ताऊ बमराज अभी अभी प्रथ्वीलोक पर दो बेवडो की म्रत्यु हुई है

अच्छा

बम दूतो

जी ताऊ बमराज

अभी अभी दो बेवडो की म्रत्यु हुई है

अच्छा

और तुम शीग्रता से जाओ और उन्हें बम लोक लेके आओ

जैसी आगया महाराज हम अभी जाते है

हा हा हा हा हा हा हा हा

उठो

टिकट कट गयी है तुम दोनों की

हा हा हा हा हा हा हा हा

बम राज के साथ मीटिंग फिक्स कर दी है तुम्हारी

हा हा हा हा हा हा हा हा

चाल तो पड़ेंगे

पर एक कंडीसन है हमारी

कंडीसन कैसी कंडीसन

हूँ हूँ

यमराज ते या मीटिंग या पक्की डन कर दो माल्टा की बोतल दो छाती पे धर दो

यमराज ते या मीटिंग या पक्की डन कर दो

माल्टा की बोतल दो छाती पे धर दो

अरे तीन टेम पीन का जुगाड़ हो जा रे

इन बेवडो ने चाहिए ना रूम ac का

मिले स्वर्ग या नरक हमने कोई न फरक बस होना चाहिए उड़े ठेका देसी का

होना चाहिए उड़े ठेका देसी का

चाहिए आलू आली भुर्जी और गंठे का सलाद चित्रगुप्त की क्लास लेवे पीवन के बाद

खड़ी देखे गी चुडेल रहवे परिया की गेल मार मार ठुमके रे लेवेगे स्वाद

चाहिए आलू आली भुर्जी और गंठे का सलाद चित्रगुप्त की क्लास लेवे पीवन के बाद

खड़ी देखे गी चुडेल रहवे परिया की गेल मार मार ठुमके रे लेवेगे स्वाद

दारू के ड्रम भी रे कर देंगे खाली मार के मुंडासा यो काली खेसी का

मिले स्वर्ग या नरक हमने कोई न फरक बस होना चाहिए उड़े ठेका देसी का

होना चाहिए उड़े ठेका देसी का

यारा के बारे में तू पूछ जाके ने टॉप के शराबी सारे करेंगे सलाम

घरा बैठे रे फ़ोन पे रे पेटी आ जागी लेके देख लिए फरिद्पुरिये का नाम

लेके देख लिए फरिद्पुरिये का नाम

यारा के बारे में तू पूछ जाके ने टॉप के शराबी सारे करेंगे सलाम

घरा बैठे रे फ़ोन पे रे पेटी आ जागी लेके देख लिए फरिद्पुरिये का नाम

लित्त्ता ले लित्ता ले ने कोना चले काम पद भरी सा बना दो देखा मोल पेसी का

मिले स्वर्ग या नरक हमने कोई न फरक बस होना चाहिए उड़े ठेका देसी का

होना चाहिए उड़े ठेका देसी का

मित्र गुप्त ये क्या स्वांग रचा रखा है

महाराज महाराज

महाराज हमे बचा लीजिये महाराज इन बेवडो से बचा लीजिये

पूरे बम लोक को तहस नहस कर रखा है

महाराज ये आप मुझसे मत पूछो अपने बम दूतो से पूछो की कोण सी आफत को उठा के ले आये

तू कोण से

बेवडो ये ही तो है हमारे महाराज बम राज

योही से के बम

हां

महाराज मुझे तो इससे छुटकारा चाहिए बस इस्तीफा ले लो मुझे नहीं करना ऐसे काम और ना सुलझाने ऐसे केस मैं तो अब चला

बम दूतो

महाराज महाराज हमे बचा लीजिये

ये क्या आफत उठा लाये

महाराज आप ही ने तो बोला था के प्रथ्वी लोक से उन दो बेवडो को उठा लाओ

क्या

हम उठा लाये महाराज

ये वाही है इन्हें शीग्रता के साथ वापस लोटा आओ वर्ना ये सारे बम लोक को छती पहुचाएंगे

जी महाराज हम इन्हें तुरत वापस भेज देते है

Back to top button